आचार्य श्री तुलसी की ९७ वीं जन्मजयन्ती के अवसर पर तेरापंथ भवन में अणुव्रत दिवस का आयोजन

Posted: 14 नवंबर 2010
आचार्य श्री तुलसी की ९७ वीं जन्मजयन्ती के अवसर पर 'अणुव्रत दिवस' का आयोजन

दिनांक ८.११.२०१०. इचलकरंजी.
              तेरापंथ धर्मसंघ के नवम  अधिशास्ता आचार्य श्री तुलसी की ९७ वीं जन्मजयन्ती के अवसर पर तेरापंथ भवन में अणुव्रत दिवस का आयोजन किया गया. श्री जैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा के अध्यक्ष  श्री सौभागमल  छाजेड की अध्यक्षता में आयोजित इस  कार्यक्रम की शुरुआत महिला मंडल द्वारा मंगलाचरण के साथ की गयी. 
             उपासिका सौ देवी देवी भंसाली, श्री संजय वैदमेहता, सुश्री सपना भंसाली, श्री भंवर बालड आदि ने कविताओ और मुक्तको के माध्यम से, सौ नीतू छाजेड, सौ मंजुदेवी कांकरिया, सुश्री राजवी संकलेचा, सुश्री दिक्षी जैन  आदि ने गीतिका के माध्यम से एवं श्री जवाहरलाल भंसाली, सौ अन्जुदेवी तलेसरा आदि ने वक्तव्य के माध्यम से अपनी भावांजलि गुरुदेव तुलसी के प्रति अर्पित की.  इस अवसर पर गुरुदेव तुलसी के व्यक्तित्व, कर्तृत्व एवं मानव जाति को उनके दिए गए अवदानो को याद किया गया.  विलक्षण दूरदृष्टि के धनी आचार्य श्री तुलसी ने अणुव्रत आन्दोलन, नया मोड़, समण  श्रेणी, उपासक श्रेणी, आगम संपादन, जैन विश्व भारती, पारमार्थिक शिक्षण संस्था, प्रेक्षाध्यान-जीवन विज्ञानं, जैन संस्कार विधि, जैन जीवन शैली आदि उपक्रमों के माध्यम से उन्होंने जैन धर्म को  एवं तेरापंथ धर्मसंघ को उन्होंने नयी पहचान प्रदान की.
          इस अवसर पर तेरापंथ सभा, युवक परिषद्, महिला मंडल, किशोर मंडल, कन्या मंडल के सदस्यों के साथ साथ बड़ी संख्या में धर्मप्रेमी बंधू बहिन उपस्थित थे. कार्यक्रम का संचालन सभा के उपाध्यक्ष श्री पुष्पराज संकलेचा ने किया.

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-