सत्य ओर झुट में कितना फर्क है ?

Posted: 04 अक्तूबर 2009
कबीर से किसी ने पूछा-सत्य ओर झुट में कितना फर्क है ? 
कबीर ने कहा- चार इंच .
शिष्य ने पूछा - वो कैसे ? 
कबीर ने समझाया -आँख ओर कान में चार इंच का ही फर्क है. जो कान में सनाई पड़े वह झूठ ओर जो आँख से दिखाई पड़े वह सच. हमारी जिन्दगी कानो से चल रही है, किसी के विषय में जो कुछ भी सुनते है, उसे परम सत्य मान बैठते है, जबकि भगवान ने हमें दो आँखे भी दी है, यह देखने के लिए की सुना हुआ सच है या नहीं .
 मुनिश्री तरुण सागरजी कड़वे प्रवसन  83-4

6 comments:

  1. cmpershad 04 अक्तूबर, 2009

    ..........पर कबीर के ज़माने में ये इंच कहां से आ गया:)

  2. समयचक्र - महेंद्र मिश्र 04 अक्तूबर, 2009

    भाई बात इंच में हो या अंगुल में बात सटीक है . . बहुत बढ़िया .आभार

  3. राज भाटिय़ा 04 अक्तूबर, 2009

    आप ने बिलकुल सही कहा, एक बात ओर सच बोलने वाले को बार बार सोचना नही पडता कि ?
    धन्यवाद

  4. ताऊ रामपुरिया 04 अक्तूबर, 2009

    बिल्कुल सत्य कहा. शब्दों की ऊठापटक करने से बात का वजन कम नही हो जाता. इंच ना हो होगा कोई और माप रहा होगा? पर मूल बात भावना की है.

    रामराम.

  5. संजय बेंगाणी 04 अक्तूबर, 2009

    आँखे भी धोखा दे सकती है, अतः विवेक से काम लें. वैसे कबिरजी ने मार्के की बात कही है.

  6. शरद कोकास 06 अक्तूबर, 2009

    कबीर के बहाने बात तो सही है ।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-