आई. टी. और ब्यूटी

Posted: 27 सितंबर 2009
आई. टी. और ब्यूटी
दो चीजो मे हम और हमारा देश बहुत आगे है- आई. टी. और ब्यूटी.
बूढे से बूढे आदमी को लेटेस्ट से लेटेस्ट फ़ैशन चाहिए. 
सत्य-शिव-सुन्दर  मे से सत्य और शिव गायब हो गया . 
अब केवल सुन्दर बाकी बचा है. जिसकी लोगो को चिन्ता है. 
मै आई. टी. और ब्यूटी के खिलाफ़ नही हू. 
मै तो सिर्फ़ इतना चाहता हू कि हम हमारा देश आई.टी. और ब्यूटी के साथ अपनी ड्यूटी मे भी आगे आए.
मुनि श्री तरुणसागरजी, कड्वे प्रवचन 4-20


बुराई पर अच्छाई की
विजय का प्रतिक,
दहशहरे पर शुभकामनाऎ,


3 comments:

  1. राज भाटिय़ा 28 सितंबर, 2009

    बहुत अच्छी बात बताई आप ने धन्यवाद.
    आप को ओर आप के परिवार को विजयादशमी की शुभकामनांए.

  2. ताऊ रामपुरिया 28 सितंबर, 2009

    बहुत सुंदर.

    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

  3. uthojago 29 सितंबर, 2009

    Duty is foremost.

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-