हमारे आचार्य श्री महाश्रमण क्या कहते है

Posted: 29 अगस्त 2010

1 comments:

  1. राज भाटिय़ा 29 अगस्त, 2010

    बहुत सुंदर विचार, हमे अपने बच्चो मै अच्छे संस्कार ही डालने चाहिये लोगो को देख कर उन के पीछे नही भागना चाहिये, धन्यवाद

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-