आचार्य महाप्रज्ञजी का ९० वॉ जन्म दिवस पर कोटि कोटि वन्दन।

Posted: 20 जून 2009

  
महापुरुष किसी भी काल मे और देश मे हो, उनके कर्तृत्व की आभा सदियो को उजाला देती है। तेरापन्थ सध के सस्थापक आचार्य भिक्षु ने अपने कर्तृत्व से जो रोसनी बिखेरी, वह आज भी लाखो लोगो के पथ को आलोकित कर रही है। तेरापन्थ कि दुसरी शताब्दी के प्रज्ञा पुरुष चतुर्थ आचार्य जयआचार्य ने जो शितिज उद्दघाटित किए, उनके कारण तेरापन्थ धर्म सघ मे नये प्राणो का सचार हो रहा है। आचार्य तुलसी के यशस्वी उत्तराधिकारी वर्तमान आचार्य श्री महाप्रज्ञ जी भी युगप्रधान आचार्य" के सम्मान से सम्मानित हुऐ,यह भी इतिहास कि विरल घटना है। आचार्य श्री महाप्रज्ञजी की उनके धर्म सध द्वारा "कालजयी महर्षि" के रुप मे अभिवन्दना की गई । यह भी इतिहास का दुर्लभ दस्तेवाज है। आचार्य महाप्रज्ञजी की अभिवन्दना का एक नया आयाम है ..
"हे प्रभु यह तेरापन्थ" हिन्दी ब्लोग का आचार्य महाप्रज्ञजी वर्धापन विशेषाक।"
परम श्रेद्धय गुरुदेव आचार्य महाप्रज्ञजी ने पुरुषार्थ परायण जीवन जीया, और जी रहे है। गुरुदेव के
८९ वर्ष के जिवन काल मे वह पुरुषार्थ  की दीप शिखा हम सबका मार्गदर्शन करती रही है। गुरुदेव आचार्य महाप्रज्ञजी के ९० वर्ष प्रवेश पर हम कोटि-कोटि वन्दन करते है एवम उनके स्वस्थ स्वास्थय के लिऐ मगलकामना करते है।
 
 जब तुम आए धरती पर, छाई खुशाली
धन्य बनी मॉ बालू, कुक्षि उजाली
चोरडिया कुल को, चमकाया तूने
पाकर तुमको हूऐ निहाल रे॥
अल्पज्ञ तुम महाप्र्ज्ञ कहलाए।
तेरी प्रज्ञा का कोई, पार न पाए
गुरुवर तुलसी की, जाऐ बलिहारी
खोज निकाला गुदडी लाल रे॥
रात दिन ग्रन्थो से, घिरे तुम रहते,
फिर भी निग्रन्थ जैसा जीवन जीते,
पल पल ज्ञानार्जन, आगम का सृजन
जग को दिया प्रेक्षा उपहार रे॥

4 comments:

  1. संजय बेंगाणी 20 जून, 2009

    कोटी कोटी वन्दन.

  2. राज भाटिय़ा 21 जून, 2009

    हम भी कोटि कोटि बन्धन करते है ओर उन के स्वस्थय की मंगल कामना करते है.


    मुझे शिकायत है
    पराया देश
    छोटी छोटी बातें
    नन्हे मुन्हे

  3. ताऊ रामपुरिया 21 जून, 2009

    बहुत बहुत प्रणाम.

    रामराम.

  4. ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey 22 जून, 2009

    हमारा भी नमन महर्षि को।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-