में आ रहा हूँ !

Posted: 08 सितंबर 2008

हे प्रभु यह तेरा पथ !!!!!!

हे प्रभु यह तेरा पथ !!!!!!से ही ब्लोग्स प्रेमी समझ गए होंगे ! मैं जल्दी ही आपके सामने "हे प्रभु यह तेरापथ " नाम से एक ब्लॉग लेकर प्रस्तुत हो रहा हूँ ! इसकी लॉन्च दिनाक १३ सेप्टेम्बर २००८ भादवा सुदी १३ शनिवार को होना निशित हें ! यह दिन जैन धर्म के तेरापंथ धर्म संघ के आद्य प्रवर्तक आचार्य श्री भिक्षु का २०७ वा चर्मोतस्व सिरियारी में ५०००० लोगो के समक्ष मनाया जाएगा ! उनीस्वी शताब्दी में तेरपंथ के निर्माता प्रथम आचार्य श्री भिक्षु एक ऐसे पुरूष पैदा हुए जिह्नोने भगवान् महावीर के धर्म के अरूप- स्वरुप को सामने रख कर धर्म के लिए स्थान की प्रतिबधता को अस्वीकार कर दिया ! इसमे कोई शक नही कीं कुछ स्थानों की ऐतिहासिकता हो सकती हें, पर वह ऐतिहासिकता जब परिग्रह महत्व पूर्ण के साथ जुड़ जाती हें, तो उसके कुछ गलत् परिणाम भी आ सकते हें ! आचार्य भिक्षु के मूल मंतव्य में धर्म का अर्थ - आचार हें! विचार उसका दर्शन पक्ष हें ! दर्शन से उसे समझा जा सकता हें ! धर्म जब तक आचार गत नही होता तब तक विचार बहुत महत्वपूर्ण नही बनता !!!!!

मुक्त कंठ से उनके विचारो एवं मतों को पाठको के समक्ष पेश किया जा सकता हे !

हम हर तरह से धारा प्रहवहा आपको आस्था से - धर्म से - मन से - कर्म से - मजाक से - हँसी से खुसी से हमारा चिट्ठी पढने को मजबूर करादेंगे ।

मुझे उम्मीद है, की मेरा यह ब्लॉग दुनिया भर मैं सबसे ज्यादा फेन फोल्लोविंग केंद्रित करेगा । हमारे इस ब्लॉग मैं धर्म के साथ-साथ कर्म योग भी मिलेगा ,जीवन विज्ञान भी मिलेगा और सटीक कहानिया मनोरजन के साथ-साथ स्वस्थ सम्बंदित जानकारी भी उपलब्ध रहेगी। साथ ही साथ तेरापंथ धर्म संग के वर्तमान आचार्य श्री महाप्रज्ञ जी के प्रेक्षा ध्यान अवदान भी आपके समक्ष लाया जाएगा , जिससे आप अपने परिवार सहित भरपूर लाभ ले सकते है! स्वस्थ के साथ सुंदर एवं संस्कारिक

परिवार का निर्माण करना अब हम सब के हाथ मैं ,

"हे प्रभु यह तेरा पथ" अब आपके साथ मैं है ।

गुरु गोविन्द दोनों ,खडिया काहा के लागु पाए !

बलिहारी भिक्षु आपकी साचो मार्ग बताये !! '

विघ्न हरन मंगल कारन, स्याम भिक्षु रो नाम !

गुन ओळख सुमिरन करे सरे अचिन्त्य काम !!

आप अपने मत विचार बताये..................
महावीर .......................













0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-