एक बार पुन : आप सभी को प्रणाम !

Posted: 04 मार्च 2016
हिंदी ब्लॉगर बधुओ
एक लम्बे अंतराल के बाद पुन : ब्लॉग संसार में आने का मन हुआ ! पता नही लोग कितना स्वीकार करेंगे ! 
मै स्वय काफी कुछ तो भूल गया हूँ की इसका संचालन कैसे करू ? लोगो का टेस्ट भी बदल गया होगा। .. नई पीढ़ी का अवतरण हुआ होगा ! और पुराने ब्लॉगर साथीयो का तो अता पता भी ठीक से ज्ञात नही है। ... उम्मीद करता हूँ की वे सभी सुखसाता पूर्वक मिल जाएंगे।  

शायद ब्लॉग जगत में भी "मेक इन इण्डिया" जैसी तकनीक  और भगवान विष्णु जी के चक्र के आकार का कोई "बब्बर शेर" धूम मचा रहा होगा ! 2006 -7   के समय हिंदी ब्लोगरो में विख्यात थे जिन्हे मै भी पढता था उसमे कनाडा के उड़नी तस्तरी के रूप में समीर लाला जी, हरियाणवी कंहू या इंदौरवी ताऊ जी , और उस वक्त तकनीक का बब्बर शेर थे आशीष खण्डेलावल जी। .. थोड़ा कुछ आज भी जेहन में है संजयजी बेंगाणी , शास्त्री अंकल,  और शायद कानपुर वाले फुरसतिया जी। .... दिमाग पर जोर लगा रहा हूँ। ...... तस्वीर तो उभर रही है पर आकृति नही ले पा रही है। ....  खैर  उम्र का तकाजा भी है। .. 

एक जिज्ञासा है क्या इस वक्त कोई ब्लॉग एग्रीगेटर चल रहा है। ...... 

एक बार पुन : आप सभी को प्रणाम !

0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

आपकी अमुल्य टीपणीयो के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद।
आपका हे प्रभु यह तेरापन्थ के हिन्दी ब्लोग पर तेह दिल से स्वागत है। आपका छोटा सा कमेन्ट भी हमारा उत्साह बढता है-